गुजरात के तटीय क्षेत्रों में बेहद खतरनाक तूफान की चेतावनी जारी, अलर्ट पर नौसेना

76

पूर्वोत्‍तर तथा पूर्वमध्‍य अरब सागर क्षेत्र में स्थित प्रचंड चक्रवाती तूफान ‘वायु’ पिछले छह घंटों के दौरान करीब 8 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उत्‍तर और उत्‍तर पश्चिम दिशा की और बढ़ते हुए आज 13 जून को पूर्वोत्‍तर तथा पूर्वमध्‍य अरब सागर में दीव से करीब 160 किलोमीटर दक्षिण दक्षिण पूर्व, गुजरात के वेरावल से 110 किलोमीटर दक्षिण पश्चिम तथा पोरबंदर से करीब 140 किलोमीटर दक्षिण में स्थित था।
इस तूफान के आज दोपहर बाद उत्‍तर और उत्‍तर पश्चिम दिशा की ओर बढ़कर आगे उत्‍तर पश्चिम की ओर मुड़ते हुए 135-145 किलोमीटर की रफ्तार से सौराष्‍ट्र के तट से टकराते हुए गिर सोमनाथ, दीव, जूनागढ़, पोरबंदर और देवभूमि द्वारका पर अपना असर दिखाने की संभावना है। इस दौरान तूफान की गति बढ़कर 160 किलोमीटर प्रति घंटे तक भी पहुंच सकती है।
नौसेना का पश्चिमी कमान चक्रवात वायु की ताजा स्थिति पर करीबी नजर रखे हुए है। नौसेना के पोत चेन्‍नानी ,गोमती और दीपक राहत सामग्रियों के साथ मुंबई में हैं और सूचना मिलते ही तुरंत गुजरात पहुंचने के लिए तैयार खड़े हैं। इन जहाजों पर 5 हजार लीटर पीने का पानी भी लादा गया है। नौसेना के सात पोत और तीन हेलीकाप्‍टरों को अतिरिक्‍त रूप से तैयार रखा गया है। आपात स्थिति में तुरंत सहायता पहुंचाने के लिए गोताखोरों और राहत कर्मियों की दो टीमें तथा 3 चिकित्‍सा दल भी तैयार किए गए हैं। द्वारका और पोरबंदर में सामुदायिक रसोई चलाने की व्‍यवस्‍था की जा रही है। वायु सेना के हेलीकॉप्‍टरों और विमानों को आवश्‍यकता पड़ने पर तूफान से होने वाले नुकसान का आकलन करने और लापता तथा फंसे लोगों की तलाश और उन्‍हें सुरक्षित निकालने के लिए तैयार रखा गया है।