दिल में कितने राज हैं- स्नेहलता नीर

113

दिल बना फ़ौलाद का मुश्किल से घबराता नहीं
धार उल्टी वक़्त की हो खौफ़ ये खाता नहीं

अब तराने भी मुहब्ब्त के कोई गाता नहीं
प्यार में कोई वफ़ा भी अब निभा पाता नही

है जुबाँ शीरी हमारी प्यार है अपना खुदा
दिल में जो बस जाए तो फिर दिल से वो जाता नही

दिल में कितने राज हैं बस जानता दिल राज है
पर कभी इन्सान सबको सब तो बतलाता नहीं

जब तलक़ जिंदा हैं तब तक ही सभी सम्बन्ध हैं
बाद मरने के कोई भी साथ तो जाता नहीं

देश भक्ति तो दिखावा है हमारे सामने
वरना अपने मुल्क़ को वो यूँ तो लुटवाता नहीं

ग़म के भवसागर से हमको पार जाना है मगर
नाख़ुदा कोई हमें भी तो नज़र आता नहीं

मैं करूँ कैसे यकीं जो भी कहा है शोर कर
बात सच होती अगरचे यूँ तो हकलाता नहीं

ये हमारी है कमी रहबर बनाया हैं उन्हें
दाग़ दामन पर लगे ईमाँ से भी नाता नहीं

जऱ में ताक़त है बहुत देखा है इस संसार में
कोई भी ज़रदार को झूठा भी ठहराता नही

ज़िन्दगी में क़द्र कर लो वक़्त पर तुम वक़्त की
जो गया पल बीत वापस लौट कर आता नहीं

बात करता रोज़ है अच्छे दिनों की वो मगर
ख़्वाब हैं सब झूठ अच्छे दिन तो दिखलाता नही

-स्नेहलता नीर