योग के प्रचार में योगदान के लिए मीडिया को किया जायेगा सम्मानित

42

केन्द्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि योग का नियमित अभ्यास और प्रचार स्वस्थ जीवन, स्वस्थ जीवन शैली आरोग्य, और रोग की रोकथाम में काफी मददगार रहा है। योग दुनिया के लिए भारत का एक बड़ा उपहार है और यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में न्यू इंडिया का मंत्र बन गया है। योग को संयुक्त राष्ट्र द्वारा सार्वभौमिक रूप से स्वीकार किया गया है और अब प्रत्येक वर्ष 21 जून को दुनिया के लगभग 200 देशों में इसका अभ्यास किया जाता है। इस अवसर पर श्री जावड़ेकर के साथ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सचिव अमित खरे भी उपस्थित थे।
भारत और विदेशों में योग के प्रचार प्रसार में मीडिया की सकारात्मक भूमिका और जिम्मेदारी को स्वीकार करते हुए, केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि योग के प्रचार में मीडिया के योगदान को पहचान दिलाने के लिए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने इस वर्ष से अंर्तराष्ट्रीय योग दिवस मीडिया सम्मान शुरू किया है। मीडिया संगठनों को दिया जाने वाला यह सम्मान विभिन्न श्रेणियों के तहत दिया जाएगा, जिसमें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मीडिया सम्मान- प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया (रेडियो टेलीविजन) से जुड़े मीडिया संगठन
तीन श्रेणियों में तैंतीस (33) सम्मान। समाचार पत्रों में 22 भारतीय भाषाओं और अंग्रेजी में योग की बेहतरीन मीडिया कवरेज के लिए 11 सम्मान। टेलीविजन पर 22 भारतीय भाषाओं और अंग्रेजी में योग के बेहतरीन कवरेज के लिए 11 सम्मान। रेडियो पर 22 भारतीय भाषाओं और अंग्रेजी में योग के बेहतरीन कवरेज के लिए 11 सम्मान। सम्मान के तहत एक पदक, ट्रॉफी और एक प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा। 10 जून से 25 जून के बीच मीडिया पर योग की कवरेज इस पुरस्कार के लिए मान्य होगी। योग को लोकप्रिय बनाने में मीडिया के योगदान का आकलन 6 सदस्यों वाले निर्णायक मंडल द्वारा किया जाएगा। सम्मान प्राप्त करने वालों के नाम की घोषणा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के दिन की जाएगी। सम्मान संभवतः जुलाई में आयोजित पुरस्कार समारोह में प्रदान किए जाएंगे।