जितनी बाहर चहल पहल है- वर्षा श्रीवास्तव”अनीद्या”

0
480

जितनी बाहर चहल पहल है,
उतना भीतर एकाकी मन,
रिश्तों से जब दर्द ही मिलता,
खुद में सिमटे बैरागी मन।
उम्मीदों का बढ़ते जाना,
कष्ट सदा ही देता है,
तुमने क्यों उम्मीद लगाई,
आरोप मढ़े ये बेबाकी मन।
हृदय सदा ही दुखा हैं देते,
हृदय में अक्सर रहने वाले,
मरुथल में तो रेत मिलेगी,
पानी ढूंढे सैलानी मन।
चेहरा चेहरा भेद भले हो,
भीतर से सब एक ही जैसे,
आंसू देकर हाल पूँछते,
मुझको कहते आरोपी मन।

-वर्षा श्रीवास्तव”अनीद्या”
मुरैना (म.प्र)

परिचय-
नाम-वर्षा श्रीवास्तव
जन्म-16.03.1987(मुरैना मध्यप्रदेश)
शिक्षा-बी.एस. सी.,एम. बी.ए.
पता-38/581 शर्मा गली गोपाल पुरा मुरैना।
प्रकाशन-विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में रचनाओं काप्रकाशन
सम्प्रति-सुपरवाइजर ,महिला एवं बाल विकास विभाग
ई मेल- varsha shrivastava.2012@rediffmail.com
Keshar.shri@gmail.com