नारी तुम क्या नहीं हो- कुमारी अर्चना

0
337

नारी तुम जल सी शीतल हो
नारी तुम ज्वालामुखी सी गरम हो
नारी तुम सागर सी हो
नारी तुम थल सी नरम हो
नारी तुम चट्टान सी कठोर हो
नारी तुम नभ सी उँची उड़ती हो
नारी तुम समीर सी चलती हो
नारी तुम सरिता बन बहती हो
नारी तुम धारा में रहती हो
नारी तुम पर्वत सी स्थिर हो
नारी तुम पहाड़ सी श्रृंखला हो
नारी तुम पेड़ सी छाया देती हो
नारी तू पौधो सी हरियाली लाती
नारी तुम कली से बंद रहती
नारी तुम फूल बन खिलती
नारी तुम बीज से फसल बनती
नारी तुम इतिहास के पन्नों में
नारी तुम भूगोल सी गोल हो
नारी तुम नित ज्ञान देती हो
नारी तुम विज्ञान सी खोज हो
नारी तुम ब्राहाण्ड सी विशाल हो
नारी तुम ही अर्थ में हो
नारी तम देवी सी हो
नारी तुम पृथ्वी सी हो
नारी तुम नर नरायण में हो
नारी तुम आदि शक्ति हो
नारी तुम लक्ष्मी हो
नारी तुम कल्याणी हो
नारी तुम पुत्री हो
नारी तुम प्रेयसी हो
नारी तुम ममतामयी हो
नारी तुम गृस्वामिनी हो!

नारी तुम संस्कारों हो
नारी तुम सत्कर्म हो
नारी तुम धर्म हो
नारी तुम धर्मग्रंथ में
नारी तुम भाग्य विधाता हो
नारी तुम मायामयी हो
नारी तुम दयामयी हो
नारी तुम करूणीय हो
नारी तुम ही मोक्ष हो!

-कुमारी अर्चना
पूर्णियाँ,बिहार