आदमी की निगाह में औरत- कुमारी अर्चना

0
462

आदमी की निगाह में औरत क्या है
कैसी है और क्यों है
ये दृष्टिकोण जाने से पहले
ये जाना भी बहुत जरूरी है कि
आदमी कब धरती पर आया
आदमी का अपने जैसे आदमी से
शक्ल से भित्र है या स्वाभाव में भी!

जब एक आदमी दूसरे आदमी से
औरत के प्रति विचार,सोच और
व्यवहार में अलग अलग है तो
औरत की परिभाषा करना भी
यह व्यक्तिगत स्वभाव,शिक्षा,संस्कार
और हालातों पर निर्भर करता है!

पश्चिमी सभ्यता ऐडम और एम्बेला
हिंदू धर्म पुराण मनु और सतरूपा
और इस्लाम में आदम और हुवा से
पहला मानव उत्पति मानता है!

आदमी की निगाह में
औरत केवल देह है
औरत केवल वस्तु है
जिसे उसकी मर्जी से
क्रय व विक्रय की जाती
जैसे कि वस्तुओ को!

आदमी की निगाह में
औरत जीवित संपत्ति है
जमीन,मकान व धन जैसी
औरत बच्चा पैदा करने की मशीन है
जो जब तक टूटती नहीं
कभी थकती नहीं है!

औरत घर की सुसज्जा है
सोफा,पलंग,टेबल जैसी
बाहरी लोगों के मनलुभावने के लिए!

नाजुक सी छुईमुई,कोमल कली है
जो केवल उसके लिए भोग के ही
लिए बनी है
जैसे फूल,फल व इत्र आदि!

औरत माँ, प्रेमिका,पत्नी,बेटी भी है
औरत देवी दुर्गा,काली,लक्ष्मी भी है
औरत उसकी जीवन संगनी भी है
जो सुख दुख में साथ रहती है
उसके परिवार और बच्चों की
सेवा से सिंचने वाली मालिन है
उसके घर की नींव है जो अपने
से विश्वास मजबूती देती है!

आदमी की नजर में औरत आदमी जैसी ही है
हँसती,बोली,गाती और खाती पीती मानव है
पेट की रोजी-रोटी जोड़ने वाली सहयोगनी भी है!

आदमी की निगाह में औरत
अर्दनारीश्वर शिव व शक्ति रूपा है!

आदमी की निगाह जैसी होगी
औरत उसको सदा उसी
रूपी में नज़र आएगी
मन की नज़र साफ़ होगी तो पवित्र,शांत,सौम्य,संस्कारी,ममतामयी
और खराब होगी तो
चरित्रहीन,कुलटा,माया, कुलनाशनी नज़र आएगी!

कुमारी अर्चना
पूर्णियाँ,बिहार