दोस्ती -श्वेता राय

0
248

रिश्तों को जीते हुये हम
आँखों की पुतलियों में जीते हैं कई भाव
और तय होती हैं
हर भाव की एक निश्चित परिधि

कि तभी बीज बन उतर जाता है एक रिश्ता
मन की जमीन पर
जो एक दिन बन जाता है वट वृक्ष
जिसकी जड़ों में होती हैं असंख्य शाखाएं
रिझाने,मनाने, सताने, रुलाने, की
और विश्वास की टहनियों पर
खिलखिलाती हैं खुशियों की पत्तियां

गुजरते पलों के साथ
निकल आती है अनुकूलन की जटायें
कि दोस्त सहस्र मील दूर होकर भी
नही छोड़ते हैं साथ
वो घूमते रहते हैं सूरजमुखी की तरह
कि दोस्ती होती भी तो है सूरज जैसी प्रदीप्तिमान

दोस्त, कभी नही बन पाते है नदी
कि वो चाह कर भी न लौट सके पहाड़ तक
और न ही बन पाते है सागर
कि निश्चित कर लें अपनी हद…

शाश्वत कुछ भी नही होता है
बदलाव ही नियति है
पर यहाँ हम आगे बढ़ कर भी लौटते हैं बार बार

कि दोस्त ऋतु होता है और दोस्ती मौसम ……………

-श्वेता राय