उस किताब में- पिंकी दुबे

0
219

कवर पिक साधारण थी
कुछ ज्यादा अट्रेक्टिव नहीँ लगी
मेज पर रखी उस किताब की,
जो धूल में सनी थी,
शायद कोई उसे महीनों पहले
उसी मेज पर भूल गया था
मालूम पड़ रहा था तब से
किसी ने उसे हाथ भी नहीँ लगाया है
मैं जैसे-जैसे किताब पढ़ती गई
तब एहसास हुआ मुझे,
मेरे लिए यह महज़ एक किताब है
पर लिखने वाले ने
उस किताब में
अपनी पूरी जिंदगी की निचोड़ लिखी है

-पिंकी दुबे