तेरी चाहत में सजदे कर रही हूँ- सोनिया वर्मा

0
376

ये लम्बी आहें मैं जो भर रही हूँ
तेरी चाहत में सजदे कर रही हूँ

पुरानी हो गयी हूँ आज बेशक
कभी मैं भी नया पैकर रही हूँ

बहुत ज़र है जमा, लेकिन ये मानो
कई बीमारियों से मर रही हूँ

बिता दी ज़िन्दगी पाया नहीं कुछ
अभी तक मील का पत्थर रही हूँ

उठाकर रख दिया तब मुझको पूजा
वगरना राह का कंकर रही  हूँ

झुका दी है नज़र देखा जो तुमको
अदब है ये न समझो डर रही हूँ

समझ में आ गयी दुनिया ये मुझको
कभी इस दर, कभी उस दर रही हूँ

-सोनिया वर्मा