पर्वतों में हम सदा भी ढूंढ़ ही लेंगे- ब्रह्मदेव बन्धु

0
103

इन पुराणों में पता भी ढूंढ़ ही लेंगे
पर्वतों में हम सदा भी ढूंढ़ ही लेंगे

दिल में लोगों ने दबा रख्खी है चिंगारी
उसकी खातिर वो हवा भी ढूंढ़ ही लेंगे

शहर भर की नब्ज़ पर जो हाथ रखते हैं
रोग की अपने दवा भी ढूंढ़ ही लेंगे

ढूंढ़ने निकले हैं जब हम आस्था लेकर
पत्थरों में देवता भी ढूंढ़ ही लेंगे

तम घना है किन्तु फिर भी तेरे अंतस में
खुद को थोड़ी सी वफ़ा भी ढूंढ़ ही लेंगे

चित्रगुप्त आकर रखेंगे जब बही-खाता
अपनी-अपनी सब ख़ता भी ढूंढ़ ही लेंगे

– ब्रह्मदेव बन्धु