दे लव यू- सूरज राय सूरज

227

साहब

अपने ये मोबाइल वापस ले लीजिए, ये हमें नहीं चाहिए।

आंखों में आंसू लिए एक बुज़ुर्ग दंपत्ति ने अपने दो मोबाइल निकालकर कंपनी के मैनेजर की टेबल पर रख दिए।

क्यों, क्या हुआ??

सर हमारी कंपनी ने आप बुजुर्गों को इसलिए ये फोन दिए हैं कि जिनके बच्चे बाहर हैं, विदेश में हैं उनसे बात करने में आपको सुविधा हो, हम तो इसका कोई पैसा भी नहीं लेते। यह फोन भी हमारी कंपनी ने आप को गिफ्ट दिया है इसका भी पैसा नहीं लिया। यह तो हमारी कंपनी की सोच है कि हम अपने बुजुर्गों की सेवा करना चाहते हैं। हम अपने बुज़ुर्गों का ध्यान रखना चाहते हैं। फिर आप यह क्यों लौटा रहे हैं?

ऐसे ही साहब, आप मत पूछिये

सर अगर आप सच में इसका कारण बता देंगे तो हमें भी अच्छा लगेगा। हमें हमारी चूक का पता चलेगा। हम आगे इस बात का ध्यान रखेंगे कि हमसे कोई गलती हुई है तो उसे सुधारें।

नहीं साहब आप से कोई गलती नहीं हुई । शायद गलती तो हमारी इसकी है और यह कहते हो दोनों ने अपनी हथेलियां आगे कर दीं।

मैं समझा नहीं, मैनेजर ने कहा

हां साहब हमने भी तो यही सोचकर आप से फोन लिए थे कि परदेश में विदेश में रह रहे अपने बच्चों से कभी कभार बात कर लिया करेंगे। वो बहुत व्यस्त रहते हैं न, तो हम ही फोन लगा लिया करेंगे। लेकिन साहब जब भी फोन लगाओ तो एक आवाज़ आती है कि

“आप जिसे फोन कर रहे हैं वो आपकी पहुंच से बाहर है।”

साहब ये वाक्य दिल को काटता है, चीरता है। हम इसलिए इसे वापस कर रहे हैं।

लेकिन सर वो तो कम्प्यूटराइज़्ड आवाज है, सिग्नल न होने के कारण या नेटवर्क न होने के कारण,

साहब ये बात तो हम भी जानते हैं, और एक बात बताएं हमें यह बात भी मालूम है कि हमारे बच्चे सच में हमारी पहुंच से बाहर हैं, लेकिन जब भी फ़ोन से आवाज़ आती है न तो हमें यही लगता है कि अब तो पूरी दुनिया को पता चल गया है कि हमारे बच्चे हमारी पहुंच से बाहर जा चुके हैं और हम सो नहीं पाते साहब हम दोनों चुपचाप घर के कोने में बैठ कर रोते रहते हैं।

तो साहब कम से कम मोबाइल न होने से बार बार यह बात तो याद नहीं आएगी न की पूरी दुनिया को मालूम है कि हमारे बच्चे हमारी पहुंच से बाहर है और यह कहते हुए दोनों ने एक दूसरे का हाथ मज़बूती से पकड़ा और ऑफिस के बाहर निकल गए ।

सुनते हैं कि अब कंपनी अपने इस वाक्य को बदलने का विचार कर रही है और उसकी जगह यह वाक्य रख रही है कि

“आप जिसे फोन कर रहे हैं उन्हें आपकी बहुत चिंता है, वो अभी काम में व्यस्त हैं फ़ुर्सत होकर आपको फोन करेंगे, अपना ध्यान रखें,
दे लव यू”

-सूरज राय सूरज