इंतज़ार नाम का कोई शब्द- जयश्री दोरा

0
226

एक इंतज़ार स्टेशन पर
जानते हुए कि
कोई आने वाला नहीं है
रोज़ टूटती हैं उम्मीदें

स्टॉल पर पन्ने फड़फड़ाते हैं
किसी पन्ने में दर्ज़ होगा
इंतज़ार नाम का कोई शब्द
सिहर उठता होगा वह भी
धड़कनें तेज़ होती होंगी उसकी भी

हर दूसरे ट्रेन के आते ही
उम्मीदें टूटती होंगी उसकी भी
अंदर ही अंदर भीग जाता होगा
उसका मन

वक़्त चलता रहता है
ट्रैन की गति के मुकाबले
कभी आगे
कभी पीछे
कभी एकदम ठहरा हुआ- सा

विश्वास का रंग शायद बैंजनी है
हर सुबह सूरज के उगते ही
नई ऊर्जा के साथ
करता है इंतज़ार नए सिरे से
भूल जाता है बीते कल उम्मीदों का टूटना

-जयश्री दोरा