लड़कियाँ खोज ही लेती हैं खुशियाँ- शालिनी सिंह

0
279

लड़कियाँ खोज ही लेती हैं खुशियाँ
कभी माँ की डाँट में
कभी मौसमी बरसात में
कभी काॅपी के पिछले पन्नों में
कभी सूने पड़े मुहल्लों में
कहने के लिए बातें बहुत सारी हैं
पर किससे कहें ये लाचारी है
कहती है कभी अपनी तनहाइयों से
कभी धूप की परछाईयों से
कभी चाँद से कभी चाँदनी रात से
कभी खुद के ही एहसास से
दुःखी होना और दुखी होकर
यूँ ही रह जाना नही आता
उन्हें
उनको बस आता है
तो केवल मुस्कुराना
बात बेबात हँसते जाना
गाना और गुनगुनाना
सब सहकर भी जी जाना

-शालिनी सिंह