आज फिर दिन कुछ उदास है- श्वेता राय

0
154

आज फिर दिन कुछ उदास है

नाम उसका जो जिंदगी रख दिया
मिल कर भी मिला अधूरा सा वो
यादें उसकी जगाती मिलन प्यास है
आज फिर दिन कुछ उदास है

शाम सुबह की है गुनगुनाहट वही
रात तपती है पर दुपहरी की तरह
ख्वाब ही अब उसके मेरे खास है
आज फिर दिन कुछ उदास है

मिलना था तो मिले हम कड़ी धूप में
चल न पाये मगर कुछ कदम साथ में
खुश रहो तुम यही मन कीअरदास है
आज फिर दिन कुछ उदास है

दास्ताँ जो लिखी पर पढ़ी ना गई
वक़्त की धार जिसको बहा ले गई
जीऊँ उस पल को जगती ये क्यों आस है
आज फिर दिन कुछ उदास है

-श्वेता राय