दिल परेशाँ है उसकी ख़ातिर ये- चित्रा भारद्वाज सुमन

0
134

दिल परेशाँ है उसकी ख़ातिर ये
और कर बैठी उसको ज़ाहिर ये

फिर से दरिया सराब निकला तो
प्यासा मर जाएगा मुसाफ़िर ये

कुछ असर ही नहीं हुआ उस पर
हुस्न किस काम का रहा फिर ये

आई किस रस्ते से थी तन्हाई
बज़्म में पहले से थी हाज़िर ये

दूर रखना हवा से चिंगारी
आग सुलगाने में है माहिर ये

इश्क़ है इश्क़ है कहा लेकिन
काश आँखों से करता ज़ाहिर ये

अब दुआ की तुम्हें ज़रूरत है
है सुमन मर्ज़-ए- इश्क़ आख़िर ये

-चित्रा भारद्वाज सुमन