बस तुम में खो जाती हूँ मैं- शिवानी विनय सिंह

135

मुझे नहीं पता कि प्यार क्या होता है
पर जब साथ होते हो नई सी हो जाती हूँ मैं
भूल कर हर छोटी बड़ी तकलीफ
बस तुम में खो जाती हूँ मैं
जब देखती हूँ कि तुम भी मुझे देख रहे हो
आँखों से ही मुस्कुरा जाती हूँ मैं
पता नहीं क्यों छुपाते हो तुम
कि तुमको भी प्यार है मुझसे
बस एक बार आँखों से नही,
होंठो से सुनना चाहती हूँ मैं
मुझे पता नहीं कैसे पता है?
तुम्हारे भीतर थोड़ी सी पाई जाती हूँ मैं
हाँ जब साथ होते हो तुम नई हो जाती हूँ मैं

-शिवानी विनय सिंह