मिले जो तुम्हें कभी- शालिनी सिंह

0
167

ढल जाती हैं
हर साचें में क्या ये
कमजोर होती हैं।
या हर रूप
को पा लेने की
ओर होती हैं।।

चाहा अनचाहा
कुछ अपना नहीं होता।
मिलता है सबकुछ
बस कोई सपना नहीं होता।।

चुप रहती हैं ये
बात करती हैं आँखें इतनी।
समझ आ जाएँ तो
ये हैं समुद्र जितनी।।

खुश रहती हैं
ये हँसती भी हैं।
पर जाने क्यों अकेले में
सिसकती भी हैं।।

मिले जो तुम्हें कभी
समझने की कोशिश करना।
यूँ तो कहेंगी नहीं
बस पढ़ने की कोशिश करना।।

-शालिनी सिंह