Sunday, February 24, 2019
Home Tags श्वेता सिन्हा

Tag: श्वेता सिन्हा

दिल टाँक दूँ मैं तुम्हारे गालों में- श्वेता सिन्हा

तुम ही तुम छाये हो ख़्वाबों ख़्यालों में दिल के शजर के पत्तों में और डालों में लबों पे खिली मुस्कान तेरी जानलेवा है चाहती हूँ दिल...

गणतंत्र मतलब हमारा संविधान, हमारी सरकार, हमारे अधिकार और हमारे कर्तव्य

विविधतापूर्ण संस्कृति से समृद्ध हमारे देश में अनेक त्योहार मनाये जाते हैं। बहुरंगी छवि वाले हमारे देश के राष्ट्रीय त्योहार ही हैं, जो जनमानस...

वो गुम रहे- श्वेता सिन्हा

वो गुम रहे अपने ही ख़्यालों की धूल में करते रहे तलाश जिन्हें फूल-फूल में गीली हवा की लम्स ने सिहरा दिया बदन यादों ने उनकी छू...

फूल, भँवर, तितली, चाँद में तुम- श्वेता सिन्हा

जाते हो तो साथ अपनी यादें भी लेकर जाया करो पल पल जी तड़पा के आँसू बनकर न आया करो चाहकर भी जाने क्यों खिलखिला नहीं पाती...

गुजरते सर्द लम्हों की- श्वेता सिन्हा

शाख़ से टूटने के पहले एक पत्ता मचल रहा है। उड़ता हुआ थका वक्त, आज फिर से बदल रहा है गुजरते सर्द लम्हों की ख़ामोश शिकायत पर दिन ने कुछ...

देर तक तड़पा रही है उनकी याद- श्वेता सिन्हा

तन्हाई में छा रही है उनकी याद देर तक तड़पा रही है उनकी याद काश कि उनको एहसास होता कितना सता रही है उनकी याद एक कतरा धूप...

केक- श्वेता सिन्हा

आज केक आयेगा... आज केक आयेगा... केक आयेगा न पापा? मेरे चेहरे पर मासूम आँखें टिकाकर तनु ने पूछा। मैंने मुस्कुराकर हामी भरी तो उसकी आँखों में...

मैं कौन ख़ुशी जी लूँ बोलो- श्वेता सिन्हा

मैं कौन ख़ुशी जी लूँ बोलो किन अश्क़ो को पी लूँ बोलो बिखरी लम्हों की तुरपन को किन धागों से सी लूँ बोलो पलपल हरपल इन श्वासों से आहों...

झील के खामोश किनारे पर- श्वेता सिन्हा

स्याह रात के तन्हा दामन में लम्हा लम्हा सरकता वक्त, बादलों के ओठों पर धीमे धीमें मुस्कुराता स्याह बादल के कतरों के बीच शफ्फाक हीरे की कनी सा आँखों को लुभाता शरमीला चाँद, खामोश ताकते सितारों...

मोहब्बत की रस्में अदा कर चुके हम- श्वेता सिन्हा

मोहब्बत की रस्में अदा कर चुके हम मिटाकर के ख़ुद को वफ़ा कर चुके हम इबादत में कुछ और दिखता नहीं है सज़दे में उन को ख़ुदा...

Recent Posts