Sunday, August 25, 2019
Home Tags हिंदीकविता

Tag: हिंदीकविता

यक़ीन मानो- अनामिका चक्रवर्ती

ये जो तुम मेरी हर बात को सिगरेट के धुंए की तरह हँसी में उड़ा देते हो न यक़ीन मानो, मुझे कभी बुरा नहीं लगता बल्कि मैं खुद को तुम्हारे...

यादों की गिरफ्त- नंदिता राजश्री

चोर था वो, शातिर पैनी निगाहों वाला उसकी नज़रों में उतरी चीज़ें बचती नहीं थीं बड़ी सफाई से उड़ा दिया करता था फिर कीमती सामान बेच लिया...

चौखटें- नंदिता राजश्री

चौखटें उखाड़ दी गईं हैं, दरवाज़ों से उखड़े फर्श के बाकी निशान बदरंग से जल्दी ही सिमट जाएंगे, ठंडे चिकने पत्थरों में आजकल घरों में चौखटें नहीं...

आहटों का कोलाहल न था- अनिता सैनी

कभी-कभी वह अपने विचारों की कंघी से नाखून कुरेदती हुई, हौले से उसाँस में सिर्फ हे राम हे राम कहती, वह अपनों से परेशान न थीं न वह उस...

कुछ प्लान बेवजह ही कर लिया करो-नंदिता राजश्री

कभी यूं ही एक काॅल बेवजह ही कर लिया करो या कभी आ जाओ अचानक तो साथ पीयें ब्लैक काॅफ़ी या नींबू वाली चाय ज़रा सी...

आज कुछ लिखना चाहती हूँ- छवि शर्मा

आज कुछ लिखना चाहती हूँ दिल की बातो को शब्द देना चाहती हूँ क्यों हो तुम अनमोल मेरे लिए ये सोचना चाहती हूँ की है कोशिश पूरी दे सकू...

मुस्कान अश्कों की- अनिता सैनी

दर्द-ए-जिंदगी की सौगात, मिला दर्द का मुक़ाम, ग़मों की आड़ में खिली, अश्कों की मुस्कान मुहब्बत के लिबास में, दर्द-ए-ग़म से हुई पहचान, ग़मों का सितम क्या सितम, अश्कों में खिले मुस्कान कुछ ज़ख्म वक़्त का, वक़्त का रहा गुमान, वक़्त की पैरवी में, खिली अश्कों की मुस्कान ख़ामोश जिंदगी, हाथ में दर्द का जाम, सिसक रही सांसे, सीने में अश्कों की मुस्कान खता और खतावार कौन, वक़्त को खंगालता मन? सीने में दफ़्न दास्ताँ, नम आँखों की मुस्कान -अनीता सैनी

इंद्रधनुष सा प्रेम मेरा- जयति जैन नूतन

इंद्रधनुष सा प्रेम मेरा रंगों से परिपूर्ण है ठीक वैसे ही जैसे ज़िन्दगी एक रंगमंच जहा रोज़ नये रंग मंच पर उभर आते हैं ! ठीक वैसे ही जैसे जैसे मछली...

जनता- डॉ राजेश दुबे

ईद मनाती सरकारें बलि का बकरा है जनता मुफ्तखोर हैं लूट रहे जेब कटाती है जनता... आँसू पोंछ रहे घड़ियालों के जिनके दाँतों बीच फसी पूँछ हिलाती है जनता... फटे जेब पर जश्न...

प्रीत धरा की- अनिता सैनी

निशा निश्छल मुस्कुराये प्रीत से, विदा हुई जब भोर से तन्मय आँचल फैलाये प्रीत का, पवन के हल्के झोंको से कोयल ने मीठी कुक भरी, जब निशा मिली थी...

Recent Posts